प्रम्बानन: इंडोनेशिया का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर

भारत के दक्षिण-पूर्व में हिन्द महासागर व प्रशांत महासागर के बीच फैला इंडोनेशिया विश्व का सबसे बड़ा द्वीप-राष्ट्र है। लगभग १९ लाख वर्ग किमी क्षेत्रफल के साथ यह विश्व का चौदहवां सबसे बड़ा देश है। जनसंख्या के मामले यह विश्व में चौथे स्थान पर है और यह विश्व में सर्वाधिक मुस्लिम जनसंख्या वाला राष्ट्र भी है। इंडोनेशिया में कुल १३ हजार द्वीप हैं, जिनमें सुमात्रा और जावा सबसे बड़े दो द्वीप हैं। इसी जावा द्वीप पर प्रम्बानन (Prambanan) नामक हिन्दू मंदिर स्थित है, जो कि इंडोनेशिया का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर है। भारत में भले ही अधिकांश लोगों को इस आगे पढ़ें …

बिहार पर विचार…

कल बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम ने लगभग सभी को चौंका दिया है। चुनाव लड़ने वाला हर कोई जीतने या किसी को हराने के लिए ही लड़ता है (इन दोनों बातों में फर्क है!), इसलिए जो जीते हैं उनकी खुशी और जो हारे हैं उनकी निराशा स्वाभाविक है। लेकिन कल से ही मैं जीतने वालों का अहंकार और हारने वालों का क्रोध दोनों ही देख रहा हूँ। ये दोनों ही ठीक नहीं हैं। जीतने वाले कई लोग ऐसे उपदेश दे रहे हैं, मानो जनता ने उन्हें मनमानी करने का लाइसेंस दे दिया है और हारने वाले कई लोग मतदाताओं को आगे पढ़ें …

औरंगज़ेब: क्रूरता का प्रतिमान

औरंगज़ेब

(दिल्ली की द्वारका EXPRESS पत्रिका के ‘औरंगजेब विशेषांक’ में प्रकाशित मेरा लेख) पिछले लगभग एक हजार वर्षों का भारत का इतिहास बर्बर विदेशी आक्रांताओं की क्रूरता और राष्ट्रवादी हिन्दुओं द्वारा इसके सफल प्रतिकार का इतिहास है। इन क्रूर शासकों की सूची में मुगल बादशाह औरंगज़ेब का नाम निसंदेह सबसे ऊपर है। अपने उनचास वर्षों के शासन काल में औरंगज़ेब ने हिन्दुओं पर भीषण अत्याचार किए, इस्लाम के नाम पर अनगिनत मंदिर ढहाए, गैर-मुस्लिमों पर जज़िया कर लगाया, लाखों लोगों की नृशंस हत्याएं करवाईं, कश्मीरी हिन्दुओं पर जबरन इस्लाम स्वीकारने का दबाव डाला, गुरु तेगबहादुर का शीश कटवा दिया और गुरु आगे पढ़ें …

अजेय अपराजित योद्धा

आपने जूलियस सीज़र से लेकर सिकंदर तक और नेपोलियन से औरंगज़ेब तक न जाने कितने सम्राटों, सेनापतियों और योद्धाओं के बारे में पढ़ा होगा। लेकिन क्या आप मुझे उस सेनापति का नाम बता सकते हैं, जो अपने जीवन में एक भी लड़ाई न हारा हो? क्या आप मुझे उस कुशल प्रशासक का नाम बता सकते हैं, जिसने ग्वालियर के सिंधिया, इंदौर के होलकर और बडौदा के गायकवाड़ जैसे राजघरानों की नींव रखी? क्या आपने कभी उस महान भारतीय योद्धा का नाम भी सुना है? अविश्वसनीय पराक्रम का प्रदर्शन करने वाले उस अजेय अपराजित योद्धा का नाम है – पेशवा बाजीराव प्रथम! आगे पढ़ें …

कश्मीरी पण्डितों के दर्द को व्यक्त करती एक कविता…

मेरी बेटी की ओढ़नी तार-तार की गई- सब खामोश रहे। मुझे विवश किया गया अपना घर-द्वार छोड़कर संस्थापित से विस्थापित बनने के लिये कोई कुछ नहीं बोला। मैं अपने परिवार के साथ न्याय की गुहार लगाते हुए वर्षों से दिल्ली के फुटपाथ पर हूँ किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। कोई भी मानवाधिकारवादी कोई भी टीवी चैनल कोई भी राजनीतिक ध्वजाधारी मेरे विषय में चर्चा नहीं करता, मेरा आर्त्तनाद नहीं बनता किसी भी प्रगतिवादी साहित्यकार की कथा का विषय। मेरी त्रासभरी आँखें नहीं बनतीं किसी भी जनवादी पत्रिका का मुख-पृष्ठ मैं अपने प्रान्त से बहिष्कृत अपने परिवेश से तिरस्कृत अपने आगे पढ़ें …